Home Hindi

मेमोरी यूनिट (Computer Memory)

मेमोरी यूननट (Computer Memory)


कम्पप्यूटर की मेमोरी क्रकसी कम्पप्यूटर के ईन ऄवयव, साधनों तथा ररकाडथ करने वाले माध्यम को कहा जाता है, नजनमे प्रोसेहसग में ईपयोग क्रकये जाने वाले ऄंकीय डेटा (digital data) को क्रकसी समय तक सुरनक्षत रखा जाता है। कम्पप्यूटर मेमोरी अधुननक कम्पप्यूटरों के मूल कायों में से एक ऄथाथत सुचना भंडारण की सुनवधा प्रदान करती है। मेमोरी कंप्यूटर का वह भाग है जो डाटा तथा ननदेशों को संगृहीत करती है |
कंप्यूटर की मेमोरी अधुननक कंप्यूटर के मूल कायों में से एक ऄथाथत सुचना भंडारण की सुनवधा प्रदान करती है | यह कंप्यूटर के सीपीयू का एक भाग होती है और आससे नमलकर सम्पपूणथ कंप्यूटर बनता है |

मेमोरी यूनिट

मेमोरी की आकाआयां )UNITS OF MEMORY)-


 8 नबट्स =1 बाआट
1024 बाआट्स =1 क्रकलोबाआट )
1KB) 1024 क्रकलोबाआट =1 मेगाबाआट )
 1MB 1024 मेगाबाआट =1 गीगाबाआट )
1GB) 1024 गीगाबाआट =1 टेराबाआट )1TB)

मेमोरी यूननट के दो भाग होते हैं – 1. प्राथनमक मेमोरी (Primary Memory) 2. सेकेंडरी मेमोरी (Secondary Memory)


(1)प्राथनमक मेमोरी (PRIMARY MEMORY)


 आसे अंतररक या मुख्य मेमोरी भी कहते हैं | यह सीपीयू से सीधे जुडा रहता है | आसका ऄथथ है की CPU आसमें स्टोर क्रकये गये ननदेशों को लगातार पढ़ता रहता है और आनका पालन करता है | प्राआमरी मेमोरी दो प्रकार की होती है : RAM and ROM.

(i). RAM रैंडम एक्ट्सेस मेमोरी (RANDOM ACCESS MEMORY)


यह मेमोरी एक नचप पर होती है , जो मैटल - अक्ट्साआड सेमीकंडक्ट्टर से बनी होती है | हम आस मेमोरी के क्रकसी भी लोकेशन को चुनकर ईसका सीधे ही क्रकसी डाटा को स्टोर करने या ईनमे से डाटा पढने के नलए कर सकते हैं | रैम में वे प्रोग्राम और डाटा रखे जाते हैं , नजनको सीपीयू खोज सके और वहां से प्राप्त कर सके | आस मेमोरी को भी कइ भागों में बांटा जाता है , ताक्रक ईसमे रखी गइ सुचना को व्यवनस्थत क्रकया जा सके और ईन्हें पाया जा सके | ऐसे प्रत्येक भाग का एक नननित पता होता है | क्रकसी डाटा बस की सहायता से हम रैम से क्रकसी सुचना को ननकाल सकते हैं या आसमें कोइ सुचना स्टोर कर सकते हैं | रैम दो प्रकार की होती है

 (a) डायनैनमक रैम (Dynamic RAM) आसे डी रैम भी कहते हैं। डी रैम नचप के स्टोरेज सेल पररपथ में एक रांनजस्टर लगा होता है जो ठीक ईसी प्रकार कायथ करता है नजस प्रकार कोइ ओन ऑए नस्वच कायथ करता ह ै और आसम ें एक कैपने सटर भी लगा होता ह ै जो एक / नवद्युत चाजथ को स्टोर कर सकता है। आसे बार बार ररफ्रेश क्रकया जाता है नजसके कारण आसकी गनत धीमी होती है। आस प्रकार डायनेनमक रैम नचप ऐसी मेमोरी की सुनवधा देता है नजसकी सुचना नबजली बंद करने पर नष्ट हो जाती है।

(b) स्टैरटक रैम (Static ram)-


आसे एस रैम)SRAM) भी कहते हैं। आसमें डेटा तब तक संनचत जब तक नवद्युत सप्लाइ ऑन रहती है। स्टैरटक रैम में स्टोरेज सेल पररपथ में एक से ऄनधक रांनजस्टर लगे रहते हैं। डायनेनमक रैम की तुलना में स्टैरटक रैम महंगा होता है।

(ii) रीड ओनली मेमोरी (READ ONLY MEMORY)ROM-


यह वह मेमोरी है नजसमे डाटा पहले से भरा जा चूका होता है और नजसे हम केवल पढ़ सकते हैं | हम ईसे हटा या बदल नहीं सकते | वास्तव में रोम नचप बनाते समय ही ईसमे कुछ अवशयक प्रोग्राम और डाटा नलख क्रदए जाते हैं जो स्थायी होते हैं | जब कंप्यूटर की नबजली बंद कर दी जाती है , तब भी रोम नचप में भरी हुइ सूचनाएं बनी रहती हैं | रोम के ननम्ननलनखत प्रकार हैं-


  1.  प्रोम (PROM)- यह प्रोग्रामेबल रीड ओनली मेमोरी (programmable read only memory) का संनक्षप्त नाम है। यह एक ऐसी मेमोरी होती है नजसमे एक प्रोग्राम की सहायता से सुचना को स्थायी रूप से स्टोर क्रकया जाता है। 
  2.  इप्रोम (EPROM) यह आरेजेबल प्रोग्रामेबल रीड ओनली मेमोरी (Erasable Programmable read only memory) का संनक्षप्त रूप है। यह एक ऐसी मेमोरी है नजसको क्रफर से प्रोग्राम क्रकया जा सकता है।
  3.  इइप्रोम (EEPROM) यह आलेक्ट्रोननकली आरेजेबल प्रोग्रामबल रीड ओनली मेमोरी का संनक्षप्त नाम है। यह एक ऐसी आप्रोम है नजसके प्रोग्राम को रीसेट करने के नलए सर्ककट हटाने या ननमाथता को भेजने की जरूरत नहीं रहती एक नवशेष सॉफ्टवेयर की मदद से ऄपने ही कंप्यूटर में re-program कर सकते हैं।



(2)सेकेंडरी मेमोरी (SECONDARY MEMORY)


आस प्रकार की मेमोरी सीपीयू लगी रहती है आसनलए आसे बाह्य (external) मेमोरी भी कहा जाता है | कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी बहुत महाँगी होने या नबजली बंद कर देने पर ईसमे रखी ऄनधकतर सूचनाएं नष्ट हो जाने की आसी कमी के कारण सेकेंडरी मेमोरी की ईपयोनगता बढ़ जाती है | आसके ईदारहण है सीडी ड्राआव , फ्लैश ड्राआव , यूएसबी मेमोरी अक्रद |


Secondary Storage Device


Secondary Storage Device को Auxiliary Storage Device भी कहा जाता है। आसको कम्पप्यूटर में ऄलग से जोडा जाता है। आसमें जो डाटा स्टोर क्रकया जाता है। वह स्थाइ होता है। ऄथाथत् कम्पप्यूटर बंद होने पर आसमें स्टोर डाटा नडलीट नही होता है। अवश्यकता के ऄनुसार आसको भनवष्य में आसमें सेव फाइल या फोर्लडरों को खोल कर देख सकते है। या आसमें सुधार कर सकते है। एवं आसको यूजर के द्वारा नडनलट भी क्रकया जा सकता है। आसकी Storage क्षमता ऄनधक होती है Secondary Storage Device में Primary memory की ऄपेक्षा कइ गुना ऄनधक डाटा स्टोर करके रख सकते हैं, जो की स्थानांतरणीय (Transferable) होता हैं एवं डाटा को ऐक्ट्सेस करने क्रक गनत Primary Memory से धीमी होती है। Secondary Memory में फ्लॉपी नडस्क, हाडथनडस्क, कॉम्पपेक्ट्ट नडस्क, ऑनप्टकल नडस्क, मेमोरी काडथ, पेन ड्राआव अक्रद अते हैं|


Hard Drive (HDD):-




हाडथनडस्क (Hard Disk) या HDD एक physical disk होती है नजसको हम ऄपने computer की सभी छोटी बडी files store करने के नलये प्रयोग करते है। Hard disk और RAM मे ये फकथ होता है क्रक, Hard disk वो चीज है जो store करने के काम मे अती है, लेक्रकन RAM ईस storage मे रखी चीजो को चलाने के काम में अती है। जब हम computer को बन् द करते है तो RAM मे पडी कोइ भी चीज साफ हो जाती है। लेक्रकन HDD मे computer बन् द होने पर ् ौाौी data erase नही होता।

Hard disk के ऄन् दर एक disk घुमती है, नजतनी तेज disk घुमती है ईतनी ज् यादा तेजी से ये Data को store या read कर सकती है। Hard disk के घुमने की speed को हम RPM (Revolutions Per Minute) मे नापते है। ज् यादातर Hard disk 5400 rpm या 7200 rmp की होती है, 7200 rmp की hard disk 5400 rmp वाली से ज् यादा तेज होती है।

संरचना एवं कायथनवनधः- हाडथनडस्क चुम्पबकीय नडस्क से नमलकर बनी होती है। आसमें डाटा को पढ़ने एवं नलखने के नलये एक हेड होता है। हाडथनडस्क में एक central shaft होती है। नजसमें चुम्पबकीय नडस्क लगी रहती है। हाडथनडस्क की उपरी सतह पर एवं ननचली सतह पर डाटा को स्टोर नहीं क्रकया जाता है। बाक्रक सभी सतहों पर डाटा को स्टोर क्रकया जाता है। नडस्क की प्लेट में Track and Sector होते है। सेक्ट्टर में डाटा स्टोर होता है, एक सेक्ट्टर में 512 बाआट डाटा स्टोर होता है। डाटा को स्टोर एवं पढ़ने के नलये तीन तरह के समय लगते है। जो ननम्न है।

 1.Seek Time:-. नडस्क में डाटा को रीढ या राइट करने वाले Track तक पहुाँचने में लगा समय सीक टाआम कहलाता है।
 2.Latency time:- Track में डाटा के Sector तक पहुाँचने मे लगा समय लेटेंसी टाइम कहलाता है।
 3.Transfer Rate:- Sector में डाटा को नलखने एवं पढने में जो समय लगता है। ईसे Transfer Rate कहा जाता है।

फ्लॉपी नडस्क (Floppy Disk) :-


यह प्लानस्टक की बनी होती है नजस पर फेराआट की परत पडी रहती है | यह बहुत लचीली प्लानस्टक की बनी होती है| आसनलए आसे फ्लॉपी नडस्क (Floppy Disk) कहते है| नजस पर प्लानस्टक का कबर होता है| नजसे जैकेट कहते है| फ्लॉपी (Floppy) के बीचों-बीच एक पॉआंट (Point) बना होता है नजससे आस ड्राआव (Drive) की नडस्क (Disk) घूमती है| आसी फ्लॉपी नडस्क (Floppy Disk) में 80 डेटा रेक (Data track) होते है और प्रत्येक रेक (Track) में 64 शब्द स्टोर (Store) क्रकये जा सकते है| यह मेग्नेरटक टेप (Magnetic tape) के सामन कायथ करती है| जो 360 RPM प्रनत नमननट की दर से घूमती है| नजससे आसकी Recording head के ख़राब हो जाने की समस्या ईत्पन्न होती है|

Magnetic Tape:-


Magnetic tape भी एक Storage Device हैं नजसमे एक पतला फीता होता हैं नजस पर Magnetic Ink की Coading की जाती हैं आसका प्रयोग Analog तथा Digital Data को Store करने के नलए क्रकया जाता हैं | यह पुराने समय के Audio कैनसट की तरह होता हैं Magnetic Tape का प्रयोग बडी मात्रा में डाटा Store करने के नलए क्रकया जाता हैं| यह सस्ते होते हैं| अज भी आसका प्रयोग data का Backup तैयार करने के नलए क्रकया जाता हैं |

Optical Disk


Optical Disk एक चपटा, वृत्ताकार पोनलकर्मबनेट नडस्क होता है, नजस पर डाटा एक Flat सतह के ऄन्दर Pits के रूप में Store क्रकया जाता हैं आसमें डाटा को Optical के द्वारा Store क्रकया जाता है|
अौ परटकल नडस्क दो प्रकार की होती है।

CD:- Compact Disk


सीडी काम्प पैक्ट् ट नडस् क के नाम से भी पुकारते हैं ये एक ऐसा ऑनप् टकल मीनडयम होता है जो हमारे नडनजटल डेटा का सेव करता है। एक स् टैंडडथ सीडी में करीब 700 एमबी का डेटा सेव क्रकया जा सकता है। सीडी में डेटा डॉट के फामथ में सेव होता है, दरऄसल सीडी ड्राआव में लगा हुअ लेजर सेंसर सीडी के डॉट से ररफलेक्ट् ट लाआट का पढ़ता है और हमारी नडवाआस में आमेज क्रिएट करता है।

DVD:- Digital Versatile Disk


डीवीडी यानी नडनजटल वसथटाआल नडस् क, सीडी के बाद डीवीडी का अगाज हुअ वैसे तो देखने में दोनों सीडी और डीवीडी दोनों एक ही जैसे लगते है मगर आनकी डेटा कैपसेटी में ऄंतर होता है सीडी के मुकाबले डीवीडी में ज् यादा डेटा सेव क्रकया जा सकता है। मतलब डीवीडी में यूजर करीब 4.7 जीबी से लेकर 17 जीबी तक डेटा सेव कर सकता है। डीवीडी के अने के बाद बाजार में सीडी की मांग में भारी कमी देखी गइ।


Flash Drive


Pen Drive को ही Flash Drive के नाम से जाना जाता हैं अज कल सबसे ज्यादा Flash Drive का Use डाटा Store करने के नलए क्रकया जाता है यह एक External Device है नजसको Computer में ऄलग से Use क्रकया जाता हैं | यह अकार में बहुत छोटे तथा हर्लकी भी होती हैं, आसमें Store Data को पढ़ा भी जा सकता है और ईसमे सुधार भी क्रकया जा सकता हैं | Flash Drive में एक छोटा Pried Circuit Board होता है जो प्लानस्टक या धातु के Cover से ढका होता हैं आसनलए यह मजबूत होता है | यह Plug-and-Play ईपकरण है | अज यह सामान्य रूप से 2 GB, 4 GB, 8 GB, 16 GB, 32 GB, 64 GB, 128 GB अक्रद क्षमता में ईपलब्ध हैं|




Baca juga :

to Top